Indian Premier League Twenty 20 IPL tournament cmarg.in

IPL विश्व क्रिकेट की सूरत ही बदल दी

Photo Source: BDCric Time

आईपीएल यानी इंडियन प्रीमियर लीग क्रिकेट (Indian Premier League Cricket) का ऐसा मंच है जो खिलाड़ियों को न केवल पैदा करता है, बल्कि उनको निखारता है, पहचान दिलाता है और आगे बढ़ने का अवसर भी उपलब्ध कराता है। राज्य स्तर (State level) पर खेलने वाले कई खिलाड़ियों ने इसी आईपीएल (IPL) के दम पर राष्ट्रीय टीम (National Team) में अपनी जगह बनाई है। जब आईपीएल की शुरुआत नहीं हुई थी उसके पूर्व सभी देशों के खिलाड़ी अलग-अलग देशों के खिलाफ खेला करते थे, लेकिन इसकी शुरुआत होने के बाद उन्हीं खिलाड़ियों को एक ही टीम में लाकर खड़ा कर दिया।

बीसीसीआई (BCCI) के पूर्व उपाध्यक्ष ने वैश्विक स्तर पर आईपीएल की शुरुआत करने का आइडिया दिया था। उनके इस विचार को उनके सभी सहयोगियों ने समर्थन भी दिया था। ललित मोदी (Lalit Modi) एक बहुत बड़े बिजनेसमैन (Businessman) थे । उनका विचार था कि क्यों न दुनिया के बड़े-बड़े देशों के खिलाड़ियों को लेकर एक ऐसी लीग (League) शुरू की जाए, जो कि खिलाड़ियों की प्रतिभा को निखारें, उन्हें अंतरराष्ट्रीय स्तर (International Level) पर तैयार करें। ललित मोदी के इस विचार को वास्तविक रूप देने के लिए कवायद शुरू हो गई।

ललित मोदी के साथ अंबानी (Ambani), बिड़ला (Birla) जैसे बड़े बिजनेसमैन (Businessmen) लोगों ने इसमें पैसे लगाए। साथ ही साथ कई अन्य उद्योगपतियों (Industrialist) ने अपनी फ्रेंचाइजी (Franchisee) बनाने का निर्णय लिया। आखिरकार आईपीएल की शुरुआत हो गई। अप्रैल 2008 में आईपीएल का पहला मैच खेला गया। पहला मैच आरसीबी (RCB) और केकेआर (KKR) के बीच खेला गया था। पहले साल आईपीएल में 8 टीमों ने हिस्सा लिया था।

पहली बार दुनिया में एक ऐसे मंच की शुरुआत हो गई थी, जिसमें दुनिया के सामने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर (International Level) पर कई खिलाड़ियों की प्रतिभा सामने आने लगी। पहले ही साल में भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) द्वारा शुरू किए गए आईपीएल ने विश्व ख्याति प्राप्त की, लेकिन नवंबर 2008 में मुंबई में आतंकवादियों (Mumbai Attack) ने हमला कर दिया, जिसके बाद भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने एक बहुत अहम फैसला लिया और पाकिस्तान के खिलाड़ियों के आईपीएल में खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया। उसके बाद भी आईपीएल का क्रेज (Craze) कम नहीं हुआ।

साल दर साल और उद्योगपति और बिजनेसमैन (Industrialist and Businessman) ने अपनी-अपनी नई फ्रेंचाइजी (Franchisee) सामने लाई । जैसे-जैसे आईपीएल का क्रेज दुनिया में बढ़ता गया, अन्य देशों की बोर्डों ने भी आईपीएल को देखकर अपने देश में क्रिकेट लीग (Cricket league) शुरू करने का फैसला किया जैसे कि आस्ट्रेलिया बिग बैश लीग (Australia Big Bash League), वेस्टइंडीज प्रीमियर लीग (West Indies Premier League), पाकिस्तान प्रीमियर लीग (Pakistan Premier League) इत्यादि।

आईपीएल में पूरे विश्व में नाम कमाने के साथ साथ कई ऐसे आरोप लगे, जिससे कि क्रिकेट जगत में इसका नाम खराब भी हुआ। यह आरोप था क्रिकेट सट्टेबाजी (Cricket Betting) का। जैसे-जैसे आईपीएल का नाम पूरे दुनिया बढ़ने लगा था, पूरे विश्व के बड़े बड़े सट्टेबाज इस पर अपनी नजर टिकाने लगे थे। इससे आईपीएल के मैच फिक्स भी होने लगे थे। और इसी सट्टेबाजी के चक्कर में कई बड़े खिलाड़ियों को अपने करियर से हाथ भी धोना पड़ा।

खिलाड़ियों के साथ-साथ दो बड़ी टीमों चेन्नई सुपर किंग और राजस्थान रॉयल्स (Chennai Super King and Rajasthan Royals) को 2 साल के लिए बैन भी होना पड़ा था। इसके बाद आईपीएल का नाम धीरे-धीरे खराब होने लगा था। लेकिन उसके बाद एक बार फिर आईपीएल ने दर्शकों के मन में अपनी जगह बनानी शुरू की।

बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने आईपीएल के 13 वे संस्करण को अनिश्चित समय तक के लिए टाल दिया है । लेकिन जिस तरह का माहौल दुनिया देख रही है, उसे देखते हुए बीसीसीआई को इस साल का संस्करण रद्द करना पड़ा। क्योंकि स्वहित से ज्यादा अभी हमें देश हित के बारे में सोचना ही पड़ेगा। हां, यह बात अलग है कि बीसीसीआई को करोड़ों रुपए का नुकसान होगा, लेकिन बीसीसीआई इस नुकसान की भरपाई अगले संस्करण में कर सकती है। किसी के जान की भरपाई वह अगले संस्करण में नहीं कर सकती है।

2008 से 2020 के बीच 12 संस्करणों में भारतीयों और विदेशों से आई जनता ने इसे खूब प्यार दिया है, लेकिन 1 साल इसे प्रेम ना देने से इसके प्रति हमारा जुनून खत्म नहीं हो जाएगा। अगले साल फिर हम इसका इंतजार करेंगे और हाथों में रिमोट और टीवी के सामने बैठकर परिवार के साथ इसी आईपीएल का लुत्फ उठाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *