Social

ऐसे थे शास्त्री जी, पैसे न होने पर उफनाई गंगा को तैरकर किया पार

पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी के जीवन के ऐसे अनेक वाकये हैं, जिससे हंसमुख स्वभाव वाले शास्त्रीजी की सादगी के अलावा विनम्रता, कर्मठता, सरलता, नियमबद्धता, दृढ़निश्चयता वगैरह स्पष्ट झलकती है।

Social

बहुत कमाल की चीज होती है जीह्वा, संभाल कर रखें इसे

जीह्वा हमेशा जवान ही रहती है यानी उम्र बढ़ने के साथ शरीर के अन्य अंग जैसे शिथिल पड़ने लगते हैं, वैसे जीह्वा के साथ नहीं होता।

Environment International Social

गांव के वैज्ञानिक, विदेश के प्रोफेसर डॉ. रविकांत पाठक

डॉ. रविकांत पाठक न केवल एक वैज्ञानिक प्रतिभासंपन्न मेधावी उच्चशिक्षित प्रोफेसर हैं, बल्कि सोच और विचारों से सादगी, सहृदय, कोमल तथा देशकाल, परंपरा के प्रति अनुराग रखने वाले ग्राम्यभक्त भी हैं।

Cultural Social

भारत में हर दस किमी में बदल जाती है बोली : संदीप मारवाह

सातवें ग्लोबल लिटरेरी फेस्टिवल नोएडा के वर्चुअल आयोजन में जुटीं देश विदेश की जानी मानी हस्तियों ने हिंदी दिवस पर रखे अपने विचार। कहा हिंदी भाषा शब्दों की प्रेरणा शक्ति है।

Environment Social

अपनी Immunity बढ़ानी है तो नारियल या बादाम का तेल भी लगाएं

साबुन और सैनिटाइजर के ज्यादा प्रयोग से ड्राईनेस होता है। साथ ही यह उन बैक्टिरिया को भी मार देता है जो शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं। लीवर, किडनी, फेफड़े और प्रजनन प्रणाली को भी नुकसान पहुंचाता है।

Social

31 पुरुष जज+चार महिला जज, देश की शीर्ष अदालत में भी गैरबराबरी

न्यायपालिका में महिलाओं के कम प्रतिनिधित्व पर चिंता जताते हुए प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण ने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने ‘बड़ी कठिनाई’ के साथ अपनी पीठ में महिलाओं की महज 11 प्रतिशत नुमाइंदगी प्राप्त की है।

Social

जरा सा नशा करा दे… यानी अंधेरी गली में मौत से मोहब्बत की जिद

यूएनओडीसी की 2021 वर्ल्ड ड्रग रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में दुनिया भर में लगभग 275 मिलियन लोगों ने ड्रग्स का इस्तेमाल किया। 36 मिलियन से अधिक लोग नशीली दवाओं के उपयोग संबंधी बीमारियों से पीड़ित थे।

Social

नीरज ने सोना जीता, सौरव और जय शाह ने दिल, Thanks to BCCI

बीसीसीआई के कदम से देश में ‘क्रिकेट का दबदबा’ होने की छवि बदलेगी और अन्य खेलों के प्रति लोगों में उत्साह बढ़ेगा। यह निर्णय भारतीय खेल जगत के लिए सुनहरा अवसर साबित होगा।

Social

हिंदुस्तान में पराई हुई हिंदी!

यांग ने कहा, “एशियाई अमेरिकी समुदायों के बीच सीमित अंग्रेजी दक्षता (एलईपी) की दर बहुत ज्यादा भिन्न है। एशियाई आव्रजकों द्वारा बोली जाने वाली शीर्ष भाषाओं में चीनी, तेगालोग, वियतनामी, कोरियाई और हिंदी भाषा है।”

Social

मौत बेरहम हो रही और हम लापरवाह, कोरोना का जारी है खेल

दूसरी लहर के दौरान देश में अस्पताल कम पड़ गए, ऑक्सीजन और बेड के लिए बेरहमी से छीनाझपटी मची। जिन्होंने मौत नहीं देखी थी, उन्होंने न केवल इसे देखा, महसूस किया बल्कि अपने सामने अपनों को इसके मुंह में जाते देखा।